प्रश्नोत्तर

रसोई में कोई भी व्यक्ति बिना किसी भेदभाव के भोजन ग्रहण कर सकता है।

नहीं, भोजन के समय कोई दस्तावेज लाना आवश्यक नहीं है।

दाल, सब्जी, रोटी एवं अचार। जिला स्तरीय समिति स्थानीय आवश्यकतानुसार भोजन के मेन्यू में परिर्वतन कर सकती है।
दोपहर के भोजन का समय प्रातः 8.30 बजे से दोपहर 1.00 बजे तक एवं रात्रि भोजन का समय सायं 5.00 बजे से रात्रि 8.00 बजे तक रहेगा।
इस योजना में कोई भी व्यक्ति आर्थिक सहयोग कर सकता है। दान/सहयोग मुख्यमंत्री सहायता कोष अथवा सम्बन्धित जिले की रजिस्टर्ड जिला स्तरीय इंदिरा रसोई के बैंक खाते में कर सकता है। रसोई में कोई भी अपने परिजनों की वर्षगांठ, जन्मदिवस या अन्य किसी उपलक्ष्य में दोपहर/रात्रि या दोनों समय का भोजन प्रायोजित कर सकते हैं, आगंतुकों के लिए प्रायोजित भोजन प्रायोजित सीमा तक निःशुल्क उपलब्ध रहेगा। आपके प्रायोजित भोजन का प्रदर्शन डिस्प्ले बोर्ड पर किया जा सकेगा कि ‘‘आज का भोजन श्री .......... द्वारा ............................... कारण से प्रायोजित है।‘‘ प्रायोजक व्यक्ति लागत राशि का भुगतान संबंधित बैंक खाते में किया जाएगा। इस हेतु सहयोगकर्ता को उचित मान-सम्मान दिया जाएगा।
योजना में संस्था/कॉर्पोरेट/फर्म आर्थिक सहयोग भी कर सकती है। दान/सहयोग मुख्यमंत्री सहायता कोष अथवा रजिस्टर्ड जिला स्तरीय इंदिरा रसोई के बैंक खाते में ही किया जा सकेगा। औद्यौगिक/व्यापारिक संस्थान सीएसआर फण्ड से सहयोग कर सकते हैं, तथा ये संस्थान एक या अधिक इंदिरा रसोई के संपूर्ण सचालन का जनसहभागिता के आधार पर उत्तरदायित्व ले सकते हैं।
भोजन की गुणवत्ता सही नहीं पाये जाने पर सम्बन्धित नगरीय निकाय, जिला कलेक्टर को लिखित में शिकायत कर सकते हैं अथवा स्वायत्त शासन विभाग के टोलफ्री नं. 18001806127 पर भी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।
इन्दिरा रसोई संचालक संस्था को प्रति थाली 12 रुपये की अनुदान राशि देय है, साथ ही राज्य सरकार द्वारा प्रत्येक रसोई संचालन के समय 5 लाख रुपये व्यय कर आवश्यक आधारभूत सामग्री प्रदान की जाएगी। साथ ही प्रतिवर्ष 3 लाख रुपये सम्बन्धित नगरीय निकाय आवृत्ति व्यय के रूप में भी व्यय करेगा। सरकारी भवन की अनुपलब्धता की स्थिति में भवन किराया जिला समन्वय एवं मोनेटरिंग समिति की अनुशंषा पर रसोई के सुचारू संचालन में होने वाला अन्य व्यय आदि का भुगतान किया जायेगा।

Copyright © Indira Rasoi Yojana. All rights reserved. Designed and Maintained by RISL